मेरा नाम शिरीष शर्मा है! मैं २० साल का गोरा-चिट्टा नौजवान हूँ और इंदौर में रहता हूँ! आज मैं आप सबको मेरी पहली कहानी बताता हूँ.

मई का महीना था ! घर पर मैं अपने मोम डैड के सांथ रहता हूँ लेकिन उस दिन वो भोपाल गए हुए थे और हमारी काम वाली आ गई! वो बहुत ही सुन्दर है और उसका फिगर ३४ २८ ३४ का है.. !

मैंने दरवाजा खोला और वापस जाकर अपने बेड पर लेट गया ! इतनी देर में मैंने देखा कि वो अपना ब्लाउज़ खोल के हवा खा रही थी! मुझे देख के वो एकदम सहम गई और मैं वहां से उठ के चला गया और न्यूज़ पेपर पढ़ने लगा !

तभी वो मेरे पास आई और बोली, आपने कुछ देखा तो नहीं?

मैंने उसे कहा, कुछ तो शर्म किया करो, ऐसे कहीं भी कपड़े खोल के खड़ी हो जाती हो..?

तो वो बोली- बहुत गर्मी हो रही है, भैय्या !! क्या करूँ ?

मैंने कहा,अब कभी ऐसा मत करना!

तो वो- ठीक है, बोल के चली गई !

लेकिन मेरे दिमाग में तो वही मोटे मोटे गोल गोल बोबे दिख रहे थे ..

मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसे जाकर पूछा,तुम अपने घर पर क्या बिना कपड़ों के घूमती हो इतनी गर्मी में ..?

तो वो शरमाई और बोली,हाँ ! मेरा मरद तो मुझे मना नहीं करता नंगा घूमने के लिए!

तो मैंने कहा,जब इतने मस्त बोबे देखने को मिलेंगे तो कौन मना करेगा ..?